Dilawar Khan Mosque Mandu Sultnate Rules First Edifice

Dilawar Khan Mosque Mandu  Sultnate Rules First Edifice

Information about dilawar khan mosque mandu
Information about dilawar khan mosque mandu

After the victory of Allaudin Khilji over Mandav, the city went into oblivion from 14 to early 15th century. It is in 1320 that Delhi was taken over by Tughlaq dynasty and in 1351 that Firoz Shah Tughlaq, sat on the throne. He appointed Dilawar Khan as Governor of Mandu. After the death of Firoz Shah Tughlaq, the Tughlaq dynasty declined rapidly. Dilawar Khan seized the opportunity and claimed Mandav. He established himself as the first sultan of the Ghori dynasty.


Information about dilawar khan mosque mandu
Information about dilawar khan mosque mandu


Although Dilawar Khan retained Dhar as the capital of his kingdom, yet he gave  prominence to Mandav as well. Word of Mandav splendor spread, as Dilawar Khan held his royal court here on a number of occasions. Mandav regained its original glory under the rule of Dilawar Khan. After the death of Dilawar Khan in 1405 century his son Alp Khan took the throne under the name of Hoshang Shah, He shifted his capital from Dhar to Mandav that once again glittered on the globe due to its splendour. Dilawar Khan's mosque, that was built within the royal premises is said to be one of the first buildings that displayed Indo-Islamic features.

It is said that this royal mausoleum was actually constructed as a royal prayer hall. This is a square plane that is decorated by columns around it. On the western side, there are 4 corridors and the other 3 sides have 1 corridor each. The columns and the inner ceiling, with Hindu style and artistic engravings, acquaint you with Hindu architecture. (Source :- MTPC, Dhar)

 

दिलावर खाँ की मस्जिद ( सल्तनत काल का पहला स्मारक )

Information about dilawar khan mosque mandu
Information about dilawar khan mosque mandu
14वीं सदी में अलाउद्दीन खिलजी द्वारा माण्डव को जीतने के बाद, यह नगर 15वीं सदी के प्रारम्भिक काल तक पराभव के अंधेरे में खोया रहा। सन् 1320 में दिल्ली तुगलक वंश के अधीन हो गयी और सन् 1351 में जब फिरोज़ शाह तुगलक दिल्ली की गद्दी में बैठा, तो उसने दिलावर खान गौरी को मालवा का गवर्नर बनाया फ़िरोज़ शाह तुगलक की मौत के साथ तुगलक वंश भी बिखर गया। सन् 1401 में जब दिल्ली में तुगलक सल्तनत डगमगाने लगी, तो अवसर का फायदा उठाते हुए दिलावर खां ने खुद को मालवा का सुल्तान घोषित कर दिया।
Information about dilawar khan mosque mandu
Information about dilawar khan mosque mandu
दिलावर खान सुल्तान का खिताब धारण कर, गौरी वंश का पहला शासक बना। यद्यपि दिलावर खाँ ने धार को ही राजधानी बनाए रखा, लेकिन माण्डव को भी बराबर महत्व दिया। दिलावर खाँ ने कई मौकों पर अपना राज दरबार माण्डव में लगाया और इसी के साथ माण्डव का वैभव फिर से लौटने लगा। सन् 1405 में मालवा के पहले सुल्तान दिलावर खां की मृत्यु हो गयी, जिसके बाद उसका पुत्र अल्प खाँ होशंगशाह के नाम से गद्दी पर बैठा।
सुल्तान बनते ही होशंगशाह, धार से राजधानी माण्डव ले गया और माण्डव फिर से दुनिया के मानचित्र पर चमकने लगा।

शाही क्षेत्र में बना दिलावर खां का मस्जिद माण्डव में भारतीय-इस्लामिक संस्कृति की पहली इमारत मानी जाती है। इस मस्जिद के सम्बन्ध में कहा जाता है कि इसे शाही परिवार के इबादतगाह हेतु बनाया गया था। इस मस्जिद के चौरस समतल इबादत गृह के चारों ओर से स्तम्भी से सजाया गया है। इसके पत्रिम दिशा में 4 और उतर, दक्षिण तथा पूर्व दिशा में 1-1 गलियारा बना हुआ है। इस मस्जिद के स्तम्भ और भीतरी छत में हिन्दू शैली की कलात्मक नक्काशी उकेरी गई है, जो हिन्दू वास्तुकला का नायाब उदाहरण है।
 (Source :- MTPC, Dhar)

Logic-Guru
Logic-Guru

Mandutourism.co.in @logicguru has an authorized online publication. It started in July 2019. Our effort is to become the most famous portal of Mandu, for which we need your cooperation.

No comments:

Post a Comment