HINDOLA MAHAL - WHERE HISTORY SWINGS

HINDOLA MAHAL - WHERE HISTORY SWINGS

Information about hindola mahal
Hindola Mahal is a matchless example of an architectural  feat. In the long chain of beautiful monuments of this city. Hindola Mahal stands out as the most magnificent  One can witness an unprecedented combination of  beauty and simplicity in the making of this palace. The  palace's dais is covered with 6 arches. It is 27 meters long and 8 meters wide and with a height of 11 meters, it provides grandeur to the monument. There are two floors in this palace and the walls are 2.7 meters wide. The upper floor of this magnificent building was constructed for women of the royal family.

Information about hindola mahal
Information about hindola mahal
The palace was built in  such a way that the royal women could enter the first floor from the backs of their elephants, which gave the windows their name "Haathi Chadhav". Known all over the world for its beauty and architecture this palace is built in the shape of "T" and the walls bent at an angle of 77° give it an amazing form. The most astounding part of this palace's architecture is that it looks as if it is oscillating in the air. It is believed that it was built around the end of the 15th century during the reign of Ghiyasuddin Khilji. The palace was perhaps used as a hall of private audience where only members of the royal family and a few courtiers were allowed to enter. The sight of this palace gives the feel of history leaning on the edge of time.

  हिण्डोला महल ( समय की सरहद पर झुका हुआ इतिहास )

Information about hindola mahal
Information about hindola mahal
माण्डव का हिण्डोला महल स्थापत्य कला का सबसे बड़ा और अनुपम उदाहरण है। शाही इमारतों की श्रृंखला में सबसे चमकदार हिण्डोला महल ही है। यह इमारत वास्तु शिल्प के लिहाज़ से, बाकी इमारतों से बिल्कुल भिन्न नज़र आती है। इसके शिल्प में सादगी और सुन्दरता का बेजोड़ मेल देखने को मिलता है। छह मेहराबों से घिरा हिण्डोला महल का मंडप 27 मीटर लम्बा और 8 मीटर चौड़ा है। 11 मीटर की ऊँचाई इस महल को अमृत भव्यता देती है। इस दो मंजिला महल की दिवारें 2.7 मीटर मोटी हैं। महल की ऊपरी मंज़िल शाही परिवार की महिलाओं के लिए बनाई गयी थी।
Information about hindola mahal
Information about hindola mahal

महल को इस ढंग से बताया गया है कि शाही परिवार की महिलाएँ,  हाथियों पर बैठ कर सीधे पहली मंजिल पर पहुँचती थी। इस कारण यहाँ बनी खिड़कियों को 'हाथी चढ़ाव' कहते हैं। अपनी खूबसूरती और स्थापत्य कला के लिए पूरी दुनिया मशहूर यह महल, अंग्रेज़ी के "T" शब्द के आकार में बना हुआ है। 77 डिग्री के कोण में झुकी हई इसकी दीवारें, इसे अद्भुत स्वरुप देती है। अपनी स्थापत्य कला के चलते हिण्डोला महल हवा में झूलता हुआ प्रतीत होता है। यह माना जाता है कि इसका निर्माण 15वीं शताब्दी के अंतिम वर्षों में, गयासुद्दीन खिलजी के द्वारा कराया गया था। सम्भवतः इस महल का उपयोग दीवान-ए-खास की तरह किया जाता था। जिसमें शाही परिवार के अलावा गिने-चुने दरबारियों को ही जाने की इजाज़त मिलती थी। इस महल को देखकर ऐसा एहसास होता है मानों इतिहास, समय की सरहद पर झुका हुआ है |

Logic-Guru
Logic-Guru

Mandutourism.co.in @logicguru has an authorized online publication. It started in July 2019. Our effort is to become the most famous portal of Mandu, for which we need your cooperation.

1 comment:

  1. Best eCOGRA Sportsbook Review & Welcome Bonus 2021 - CA
    Looking for an eCOGRA Sportsbook gri-go.com Bonus? https://deccasino.com/review/merit-casino/ At this wooricasinos.info eCOGRA Sportsbook review, we're talking herzamanindir.com/ about a variety febcasino of ECCOGRA sportsbook promotions.

    ReplyDelete